BREAKING NEWS

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर शिक्षक भर्ती की तैयारी शुरू ***चुनावी गणित में भावी शिक्षकों पर भी डोरे *** :----

Tuesday, 6 November 2012

UPTET - जूनियर हाईस्कूलों में नहीं रहेगा विज्ञान-गणित के शिक्षकों का टोटा

UPTET - जूनियर हाईस्कूलों में नहीं रहेगा विज्ञान-गणित के शिक्षकों का टोटा

-
संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : बेसिक शिक्षा परिषद के जूनियर हाईस्कूलों में गणित और विज्ञान के शिक्षकों टोटा नहीं रहेगा। स्कूलों में अध्यापकों की बंपर नियुक्ति होने वाली है। शासन ने सात वर्ष से रुके अध्यापकों की पदोन्नति को हरी झंडी दे दी है। तकरीबन 1200 सहायक अध्यापकों की वरिष्ठता सूची जारी की गई है। इसके आधार पर शिक्षकों को प्रमोशन दिया जाएगा। गणित व विज्ञान के अध्यापकों को जूनियर हाईस्कूल में नियुक्ति को वरीयता प्रदान की जाएगी।
जनपद के बेसिक स्कूलों में रिक्तियों के आधार पर वरिष्ठता सूची में शामिल प्राइमरी स्कूल के अध्यापकों का प्रमोशन होना है। सहायक अध्यापक पदोन्नति के बाद प्राथमिक विद्यालय के हेड मास्टर और जूनियर हाईस्कूल (उच्च प्राथमिक विद्यालय) के सहायक अध्यापक पद पर नियुक्त किए जाएंगे। जिले के जूनियर हाईस्कूलों में शिक्षकों का टोटा है। करीब दौ सौ स्कूलों के सापेक्ष मात्र 52 अध्यापक ही हैं। इसमें गणित व विज्ञान पढ़ाने वाले मात्र एक दर्जन शिक्षक कार्यरत हैं। शेष विद्यालयों में पढ़ाई भगवान भरोसे ही है। शासन से मिली वरिष्ठता सूची में गणिव-विज्ञान के शिक्षकों की सूची तैयार की जा रही है। उनकी तैनाती जूनियर हाईस्कूलों में होगी, जबकि अन्य विषयों के अध्यापक प्राथमिक विद्यालय के हेडमास्टर बनेंगे।
बता दें कि जनपद के सहायक अध्यापकों की पिछले सात वर्षो से पदोन्नति लटकी हुई है। वर्ष 2004 से प्रमोशन का मामला उच्च न्यायालय के विचाराधीन था। उच्च न्यायालय ने विभागीय उच्चाधिकारियों को पदोन्नति के आदेश दिया था। इसके बाद बेसिक शिक्षा निदेशक ने जिले से शिक्षकों की सूची तलब की थी। अब शासन ने जिले को वरिष्ठता सूची सौंप कर पदोन्नति के निर्देश दिए हैं। बेसिक शिक्षा अधिकारी अरुण कुमार का कहना है कि सूची प्राप्त हो गई है। वरिष्ठता क्रम में अध्यापकों को प्रमोशन दिया जाएगा। उनकी तैनाती के लिए क्लक्ट्रेट सभागार में काउंसलिंग की जाएगी। इसकी तिथि जल्द ही घोषित कर दी जाएगी। दिवाली बार प्रक्रिया पूरी करने की उम्मीद है

Source - Jagran
6-11-2012

38 comments:

Chintu singh said...

Pahli baat agar aaj tandan ji ne sakt rukh apnaya tha to 1 mahine ka time kyu diya, matlab dal me kuch kala hai, andar kuch aur bahar kuch aur, aur dusri baat Blog editar ji! BLOG ME APPROVAL LAGA DIGIYE AUR 7DEC KO HATAIYEGA. Thanx

Halku said...

K.g.bhai where r u

Ram Govind Chaudhri said...

Ka re kariyawa gand fatata? Filtar lagwawat bade.
Gariya k suni?

umashankar said...

चूंकि अभी न्यायलय का आदेश अपलोड नहीं हुआ है, अतः इस समय तो मैं बस आपसे वही बता सकता हूँ जो मुझे भाई विनोद सिंह (इलाहाबाद) जी से ज्ञात हुआ है, जो कि सुनवाई के दौरान न्यायालय में उपस्थित थे.

1. सी.बी. यादव को विज्ञापन या विज्ञापन का ड्राफ्ट न लाने पर जमकर लताड़ लगाई गई.
2. बी.एड. वालों को 31.03.2014 तक की अनुमति की अधिसूचना देखने के बाद न्यायालय पुरानी भर्ती से सैद्धांतिक रूप से सहमत है.
3. अगली तारीख 7 दिसंबर 2012 और उसके पूर्व सरकार को आवश्यक संशोधन करके विज्ञापन जारी करने का आदेश दिया गया.
4. नियमावली में संशोधन और नया विज्ञापन केवल केंद्र-राज्य नियमों के विरोधाभास और तकनीकी कमियों को दूर करने के लिए है, न कि नियम बदलने के लिए.
5. न्यायालय ने पुराने विज्ञापन की अनियमितता दूर करते हुए उसके सभी नियमों-आधारों को नए विज्ञापन में समाहित करने के आदेश दिया.
6. विज्ञापन जारी होने के बाद हुए चयन-आधार सम्बन्धी संशोधन प्रभावी नहीं होंगे.
7. न्यायालय ने सरकार से एक ऐसा विज्ञापन लाने की अपेक्षा की है जिस से पुरानी भर्ती प्रक्रिया में आवेदन करने वालों के हित प्रभावित न हों.
8. आदेश के विपरीत विज्ञापन में परिवर्तित नियम लागू करने पर न्यायालय स्वयं अगली तारीख को विज्ञापन में आवश्यक सुधार करेगा.
9. समय-सीमा के अन्दर विज्ञापन न लाने पर प्रमुख सचिव को कोर्ट में खडा कर देने की चेतावनी दी.
10. शिक्षामित्रों के प्रति सरकार के झुकाव पर न्यायालय ने सरकारी वकील से कहा, (हिंदी में), "वेल-क्वालिफाइड टेट-पास लड़कों का सिलेक्शन करने में आपको प्रॉब्लम है, और आप नौकरी देना चाहते हैं उन को जो केवल सायकिल लेकर प्रधान के पीछे-पीछे घूम सकें."
11. सरकारी वकील द्वारा नियमावली में संशोधन की बात उठाने पर टंडन जी ने स्पष्ट कहा, "आपके लिए सबसे जरूरी है कि शिक्षा का अधिकार अधिनयम, 2009 के अनुसार जल्द से जल्द अर्ह और योग्य अध्यापकों की भर्ती की जाये."
मुझे स्वयं तो विनोद भाई पर पूर्ण विश्वास है. देखते हैं, आज के लिखित आदेश में इनमे से क्या-क्या बातें शामिल हैं और सरकार इनका किस हद तक पालन करती है? आशा है, सरकार ओवर-एज हो चुके अभ्यर्थियों को ध्यान में रखकर कुछ ऐसा करेगी कि अब उन्हें कोर्ट का दरवाजा नहीं खटखटाना पड़े. काफी दिनों बाद सकारात्मक खबर से मन बड़ा हल्का लग रहा है.
umashankar
9058749811
moradabad

PIYUSH SINGH said...

Chalo thoda aur mauka mila kuchh logo ko bevkoof banakar paisa batorne ka...

sunil kumar tiwari sunlkmrr@gmail.com said...

Shashwat Pathak Court ne kaha ki ap chahe to amndmnt kar le magar jab cntral aur ncte k rule ko falo karna hai to uski kya avasyakta hai. Ap technical kami(purane add me thi) dur karte huye ncte guidline k anusar ad nikale. Agar hit prabhavit(old applicants k) huye to court unme change karega
about an hour ago via mobile · Like · 3. JAI TET MERIT

Ram Govind Chaudhri said...

Sahi kah rahe ho piyush ji ab ye tet neta sab se paisa wasul kr kahege tet merit banwao, jab ki gov pahle hi gunak ka sansodhan kr chuki hai, ab old add ya tet merit ki koi sambhawna nahi hai.

Ram Govind Chaudhri said...

Sunil bhai aapk tet prem ko to salam hai, apke k liye special tet merit ka form niklega blog par aur blog par hi naukri milegi.

sunil kumar tiwari sunlkmrr@gmail.com said...

Court ne kaha ki ap chahe to amndmnt kar le magar jab cntral aur ncte k rule ko falo karna hai to uski kya avasyakta hai. Ap technical kami(purane add me thi) dur karte huye ncte guidline k anusar ad nikale. Agar hit prabhavit(old applicants k) huye to court unme change karega
JAI TET MERIT

sanjeev said...

EDITOR G court order update kijiye thanks .

sanjeev said...

EDITOR G court order update kijiye thanks .

sanjeev said...

EDITOR G court order update kijiye thanks .only through court order we can know the fact

Halku said...

Abe piyus pahle to teri shakl nahi achchi h so apni photo hata or tu kitno se paise le raha h gunak banwane k jo kabi n banegi apni hi gata h jyada gyani n ban

kundan singh said...

Anand ji tet ko watage milega

amit srivastava said...

bewkufo court ne saaf saaf kaha hai ki sarkar niwmawli me jo sansodhn karna chahti hai wah 1 mahine ke andar niymawali me sansodhan kar add nikale...mtld bharti sirf aur sirf GURANK MATHAD par hogi wah bhi prchichu ke rup me pahle joining fir trainin...salo tet merit tet merit karte karte mar jaoge....

mahesh gurasaiyan ranipur jhansi said...

hi

amit srivastava said...

bharti ki prakriya clear hai..mat tet merit paglo ko ye baat btana chahta hu ki...sarkar add sirf aur sirf gurank methad sett10%..20%..40%..aur b.ed 30% se hi karegi.,so my dear friend kuch bewkufo ke afwaho par dhan n de...aap logo ka amit aap logo ko teacher bnwa kar rahega,ok

mahesh gurasaiyan ranipur jhansi said...

ागरण ब्यूरो, इलाहाबाद प्रदेश के
प्राइमरी स्कूलों में 72 हजार से अधिक
शिक्षकों की नियुक्ति किए जाने के
मामले में हाईकोर्ट ने कड़ा रुख
अपनाया है। कोर्ट ने इसके लिए सात
दिसंबर तक का अंतिम अवसर देते हुए
सरकार से कहा है कि इस अवधि तक हर
हाल में कार्यवाही पूरी की जाए। भले
ही इसके लिए नियमों में परिवर्तन
किया जाए या फिर सरकार
नियुक्ति विज्ञापन जारी करे। यह आदेश
न्यायमूर्ति अरुण टंडन ने अखिलेश
त्रिपाठी व अन्य की याचिका पर
दिया है। अदालत में मंगलवार को अपर
महाधिवक्ता सीबी यादव ने सरकार
का पक्ष रखते हुए कहा कि प्राथमिक
शिक्षकों की नियुक्ति से पहले सरकार
अध्यापक सेवा नियमावली के कुछ
नियमों में परिवर्तन करना चाहती है।
इसके लिए कार्यवाही जारी है। इस पर
अदालत ने कहा कि जो कुछ करना है, इसे
सात दिसंबर के पहले ही किया जाए।
अध्यापकों को नियुक्ति को और
नहीं टाला जा सकता। उल्लेखनीय है
कि बसपा सरकार ने प्राथमिक
विद्यालयों में
शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया शुरू करते
हुए टीईटी परीक्षा ली, जिसका चयन
परिणाम घोषित हुआ, किंतु बीएसए के
बजाय नियुक्ति विज्ञापन बेसिक
शिक्षा परिषद की तरफ से जारी किए
गए, जिसे चुनौती दी गई। सपा सरकार
ने सत्ता में आने के बाद
टीईटी को पात्रता परीक्षा घोषित
कर दिया और नियम परिवर्तित किए।
प्रश्न उठा कि चयनित को सीधे नियुक्त
करे या प्रशिक्षण देकर नियुक्त करे,
सरकार को इसी पर निर्णय लेना है। वैसे
सरकार नियमों में संशोधन कर प्रशिक्षण
का प्रावधान करने की बात तय कर
चुकी है। इसके लिए
जरूरी कार्यवाही होना शेष है।

Abhay Yadav said...

abhi kuch ni hone wala abhi 2 ya 3 date aur milegi itna paresan mt ho bhartee 2013 ke pahle ni hogi........ye koi nai bat ni h sabko pta h............

Ram Govind Chaudhri said...

Kai news paper padhne k baad yahi samjh aata hai ki gov ko sansodhn krne ka adhesh dekr 7 dec tak adv nikalne ko kaha hai, aur is baar adv jarur niklega kyuki court pahle itna sakt kabhi nahi hua

mahesh gurasaiyan ranipur jhansi said...

आरटीई के अमल की समीक्षा करेगा केंद्र
ठ्ठ जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली दो दशक
बाद नई राष्ट्रीय
शिक्षा नीति की जरूरत महसूस कर
रही सरकार जरूरी सुधारों की रफ्तार
धीमी नहीं होने देना चाहती। लिहाजा,
सरकार ने छह से चौदह साल तक के
बच्चों की मुफ्त व अनिवार्य पढ़ाई के
लिए बने शिक्षा का अधिकार कानून पर
अमल की समीक्षा का फैसला किया है।
इरादा, उच्च शिक्षा के लिए राष्ट्रीय
फ्रेमवर्क (रूपरेखा) भी तय करने की है।
केंद्र इन मसलों पर राज्यों के साथ
मशविरा करने के साथ ही स्कूलों में
धोखाधड़ी और वसूली रोकने एवं सजा के
लिए नये कानून पर
भी राज्यों की रजामंदी हासिल करने
का प्रयास करेगा। शिक्षा का अधिकार
कानून (आरटीई) में स्कूलों में प्रशिक्षित
और योग्य शिक्षकों का प्रावधान
किया गया है, लेकिन कानून के अमल
को पौने तीन साल बीतने के बाद
भी लगभग 8.6 लाख अप्रशिक्षित
शिक्षक बच्चों को पढ़ा रहे हैं। वे
राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद
(एनसीटीई) के मापदंड पर खरे
नहीं उतरते। सबसे खराब स्थिति पश्चिम
बंगाल की है, जहां 1.97 लाख
अप्रशिक्षित हैं। बिहार में 1.86 लाख,
उत्तर प्रदेश 1.43 लाख, झारखंड में 77
हजार व जम्मू-कश्मीर में 31 हजार
अप्रशिक्षित शिक्षक हैं। यही वजह है
कि केंद्र सरकार को आरटीई के अमल पर
समीक्षा की जरूरत महसूस हुई।
मंत्रिमंडल में फेरबदल के बाद
शिक्षा (मानव संसाधन विकास
मंत्रालय) की नई टीम कई मुद्दों पर
फैसले के लिए केंद्रीय शिक्षा सलाहकार
बोर्ड (कैब) से भी मशविरा करने
जा रही है। एजेंडे पर स्कूलों में
छात्रों और अभिभावकों से झूठे वादे,
दाखिले को लेकर टालमटोल, अवैध वसूली,

GC BHARTI said...

Mr. torab sir where are you.

Halku said...

Ye gunak wala pagal koun h din raat gunak rat lagaye h tere liye gunak ka alag add aayega

Halku said...

Tet wale or flat wale teacher ban gaye ab gunak wale banege

GC BHARTI said...

जागरण ब्यूरो, इलाहाबाद प्रदेश के प्राइमरी स्कूलों में 72 हजार से अधिक शिक्षकों की नियुक्ति किए जाने के मामले में हाईकोर्ट ने कड़ा रुख अपनाया है। कोर्ट ने इसके लिए सात दिसंबर तक का अंतिम अवसर देते हुए सरकार से कहा है कि इस अवधि तक हर हाल में कार्यवाही पूरी की जाए। भले ही इसके लिए नियमों में परिवर्तन किया जाए या फिर सरकार नियुक्ति विज्ञापन जारी करे। यह आदेश न्यायमूर्ति अरुण टंडन ने अखिलेश त्रिपाठी व अन्य की याचिका पर दिया है। अदालत में मंगलवार को अपर महाधिवक्ता सीबी यादव ने सरकार का पक्ष रखते हुए कहा कि प्राथमिक शिक्षकों की नियुक्ति से पहले सरकार अध्यापक सेवा नियमावली के कुछ नियमों में परिवर्तन करना चाहती है। इसके लिए कार्यवाही जारी है। इस पर अदालत ने कहा कि जो कुछ करना है, इसे सात दिसंबर के पहले ही किया जाए। अध्यापकों को नियुक्ति को और नहीं टाला जा सकता। उल्लेखनीय है कि बसपा सरकार ने प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया शुरू करते हुए टीईटी परीक्षा ली, जिसका चयन परिणाम घोषित हुआ, किंतु बीएसए के बजाय नियुक्ति विज्ञापन बेसिक शिक्षा परिषद की तरफ से जारी किए गए, जिसे चुनौती दी गई। सपा सरकार ने सत्ता में आने के बाद टीईटी को पात्रता परीक्षा घोषित कर दिया और नियम परिवर्तित किए। प्रश्न उठा कि चयनित को सीधे नियुक्त करे या प्रशिक्षण देकर नियुक्त करे, सरकार को इसी पर निर्णय लेना है। वैसे सरकार नियमों में संशोधन कर प्रशिक्षण का प्रावधान करने की बात तय कर चुकी है। इसके लिए जरूरी कार्यवाही होना शेष है।

Halku said...

Dosto court ne clear kaha h ki old add ki tecnical khamiyo ko door karo n ki base of selection change hoga.or agar base of selection change hua ya overage walo ko mouka nahi mila to mamla supreme court jayega or add technical khamiyo ki wajah se wapas hua tha

Raviprakash Pandey said...

Good morning friends & Prabhat sir....!

Halku jee....aap kyo subah ki shuruwat jhuth aur fareb se kr rhe ho yaar....kal coart me to base of selection se related koi discuss hi nhi hua.

Plz....rumour na failao...thanks.

Raviprakash Pandey said...

Prabhat jee....apse ek request hai ki uptet.wapka.mob per news papers ki jo cuttings hai unko publish kre taki hm mobile useres use properly read kr ske.

Sir....plz post kre bcoz hm is time New Delhi me hai to hme U.P. k newspapers read krne ko nhi mil pa rhe hai.

Thanks.

Raviprakash Pandey said...

G.C.Bharti jee....aap hawa ki jhonko ki tarah aye aur kaha gayab ho gye yaar....plz join this blog...Akshay bhai aap bhi aa jao..!

GC BHARTI said...

Mr. Ravi prakash ji mai blog pr he hoon.

Halku said...

Pandeyji sach kewal aap hi bolate h mai bi kah raha hu ki court ne kewal old add ki technical khamiyo ko door karne ko kaha h think jab overage walo ko mauka nahi milega ya base of selection change hua to kya jiska nuksaan hoga wo court nahi jayega or aise 30000 condidates h sir naukri sabi ko chahiye kewal.or blog par sach ka theka kewal gunak walo ne le rakkha h wait for sometime court ahit tet merit walo ka bi n hone dega

Raviprakash Pandey said...

Dekho G.C. bhai ye Halku bhai meri baat ka bura man gaye...plz dear...I m realy very sorry....aap hmne naraz na hona...BHAGWAN pe vishwash rakho wo sbka bhala krenge.

prem prakeash said...

itna clear hai ki add aa jayega to cort decide kerega ki kis base per selection hoga / bas add aa jaye chahey acd hi ho / tondon n kaha hai ki puraney candidates ka hit prabhavit hoga to court khud sansodhan ker legi/ is liye add acd bhi aaye to bhi koi baat nahi usey chalange kerke court main sansodhan kera lia jayega/ gov ko sadbudhi aaye aur wo add le aaye bas dua kero chahey jis base per/ aakhir main puraney candidates ki jeet hogi kyonki acd se puraney candedates k hit to prabhavit hoga hi

Raviprakash Pandey said...

Aur G.C.Bharti jee...apka new gunank method se merrit kitna bn rha hai.

GC BHARTI said...

Mr. halku sir & raviprakash sir jhoot koi nhi bolta sirf hum sabh dost tension mai jee rhe hai k bharti start q nhi ho rhe hai jab bharti start ho jayegi to dosto sab kuch thik ho jayega ishliye apas mai koi comment ek dusre ko na karesir ji.
ab to bharti hokar he rahegi sir jab hum log last 1 year se wait kar rhe hai to kuch din or sahe sir.
or halku sir and ravi prakash sir aap dono he sahe hai koi jhoot nhi bol rha hai.
mere vicharo se apko koi problum ho to i am very sory.
apke vicharon ka welcome hai.
thanx.

Halku said...

Pandeyji i'm always with u becos we r brothers

Halku said...

Mere vichar se hamare sath sabse galat hamare tetians netao ne kiya agar ye shuruat se kisi base ko chodk sabi k liye job mangte to hamara sangthan bi majboot hota or ham apni bat manwa bi lete.abi sab alag alag h or naukri sangthit shikshmitra karege

Raviprakash Pandey said...

Halku bhai apne bilkul hmare dil ki baat bol di....pehle bhi to bhartiyan hoti thi but itna tention nhi hota tha...ab roz-roz naye neta paida hokar sbka future barbad kr rhe hai.